जो बिडेन को पीएम मोदी ने कौन से १० दान किये ? पढ़ें I

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन और प्रथम महिला जिल बिडेन ने बुधवार (अमेरिकी स्थानीय समय) को व्हाइट हाउस में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत किया। बिडेंस द्वारा आयोजित रात्रिभोज के दौरान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने उपहारों का आदान-प्रदान किया।

जो और जिल बिडेन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत से कई तरह के उपहार लेकर आए थे ।

उपहार -1: चंदन का डिब्बा

पीएम मोदी ने जो बिडेन को चंदन का एक विशेष सन्दूक उपहार में दिया जिसे जयपुर के एक कुशल शिल्पकार ने बनाया है । यह संदूक कर्नाटक के मैसूर से प्राप्त चंदन की लकड़ी से बना हुआ है और उसपर वनस्पतियों और जीवों के आकृति की जटिल नक्काशी की गई है।

sandal box

बॉक्स में क्या क्या है?

मोदी द्वारा दिए गए बक्से में एक तेल का दीपक , एक गणेश की चांदी की मूर्ति , एक तांबे की प्लेट और  १० दान के प्रतीक से भरे हुए १० चांदी के बक्से रखे हुए हैं ।

गणेश की मूर्ति

ganesh

यह चांदी की गणेश मूर्ति कोलकाता के चांदी कारीगरों के परिवार की पांचवीं पीढ़ी के सदस्य द्वारा हस्तनिर्मित है। हिन्दु धर्म में गणेश को शुभ और सभी देवताओं में प्रथम पूजनीय माना जाता है।

 

 

 

 

दिया /दीपक

 

dipak

हिन्दू धर्म के अनुसार घर में एक दिये / तेल के दीपक को घर के एक पवित्र स्थान में रखा जाता है, जहां परिवार के लोग दैनिक प्रार्थना करते है। इस चांदी के दिए को भी कोलकाता उन्ही कारीगरों ने बनाया है जिन्होंने गणेश की मूर्ति को बनाया था

 

 

 

ताम्रपत्र

यह ताम्रपत्र उत्तर प्रदेश से लिया गया है। इस  ताम्रपत्र पर एक श्लोक लिखा हुआ है। ताम्रपत्र का लेखन के माध्यम के रूप में उपयोग प्राचीन काल से ही किया जाता रहा है।

 

 

10 दान (दस दानं )

danam

चाँदी की डिब्बियों में प्रतीकात्मक दस दानं या दस दान होते हैं जो उस अवसर पर किए गए दान को दर्शाते हैं जब किसी व्यक्ति ने अस्सी साल और आठ महीने की उम्र पूरी करने पर एक हजार पूर्ण चंद्रमा देखे हों।ऐसा व्यक्ति दृष्टा सहस्रचंद्र बन जाता है
जीवन के इस चरण में, उस व्यक्ति को मानव जीवन के इस अनुभव के लिए सम्मानित किया जाता है और जश्न मनाया जाता है। सहस्र पूर्ण चंद्रोदयम उत्सव के दौरान, दस अलग-अलग प्रकार के दान करने की परंपरा है, दस दान में शामिल हैं – भूदान (भूमि), गौदान (गाय), तिलदान (तिल के बीज), आज्यदान(घी), हिरण्यदान (सोना), धान्यदान (अन्न), गुड्डन (गुड़), वस्त्रदान (कपड़े), रौप्यदान (चांदी) और लवण दान (नमक )

 

  • भूदान (भूमि का दान )

चंदन का एक सुगंधित टुकड़ा, भूदान (भूमि दान) के लिए भूमि के स्थान पर दान  किया जाता है।

 

 

  • गौदान (गाय का दान )

हाथों द्वारा निर्मित एक जटिल चांदी का नारियल गौदान, गौदान करने के लिए इसका उपयोग गाय के स्थान पर किया जाता है .

 

 

  • तिलदान (तिल के बीज का दान )

सफेद तिल, तिलदान के लिए दिया जाता है। मोदी ने तमिलनाडु का सफ़ेद तिल दस दान में दिए .

 

 

 

  • आज्यदान(घी का दान )

आज्यदान में घी को दान में दिए जाता है। दस दान में बिडेन को पंजाब का घी दिया गया है।

  • हिरण्यदान (सोना का दान )

हिरण्यदान में सोने का दान किया जाता है। हिरण्यदान के लिए राजस्थान में हस्तनिर्मित,  24 कैरेट हॉलमार्क वाला सोने का सिक्का दिया गया है।

 

 

  • धान्यदान (अन्न का दान )

dhanyaधान्यदान में अनाज को दान में दिया जाता है। धान्यदान के लिए उत्तराखंड के लंबे दाने वाले चावल को दिया गया है।

 

 

 

  • गुड्डन (गुड़ का दान )

गुडदान में गुड़ को दान में दिया जाता है। गुडदान के लिए महाराष्ट्र का गुड़ दिया गया है

 

 

  • वस्त्रदान (कपड़े का दान )

वस्त्रदान (कपड़े का दान) के लिए झारखंड का हाथ से बुना हुआ टसर रेशम का कपडा दिया गया है।

 

 

 

  • रौप्यदान (चांदी का दान )

रौप्यदान के रूप में 99.5 प्रतिशत शुद्ध और हॉलमार्क वाला चांदी का सिक्का दिया गया है।जोकी राजस्थान के कारीगरों द्वारा बनाया गया है।

 

 

  • लवण दान (नमक का दान )

लवण दान के लिए गुजरात का  नमक दिया गया है ।

 

 

 

 

उपहार- 2: ‘द टेन प्रिंसिपल उपनिषद’ नामक पुस्तक

अमेरिकी राष्ट्रपति बिडेन हमेशा से ही आयरिश कवि विलियम बटलर येट्स के प्रशंशक रहे हैं । राष्ट्रपति बिडेन ने अक्सर सार्वजनिक भाषणों में उनके लेखन और कविताओं का संदर्भ देते रहते हैं।
येट्स के मन में भारत के प्रति गहरी प्रशंसा थी और वह भारतीय आध्यात्मिकता से बहुत प्रभावित थे।

1937 में, येट्स ने श्री पुरोहित स्वामी के साथ सह-लेखक, भारतीय उपनिषदों का एक अंग्रेजी अनुवाद प्रकाशित किया। दोनों लेखकों के बीच अनुवाद और सहयोग पूरे 1930 के दशक में हुआ और यह येट्स के अंतिम कार्यों में से एक था।

लंदन के मेसर्स फेबर एंड फेबर लिमिटेड द्वारा प्रकाशित और यूनिवर्सिटी प्रेस ग्लासगो में मुद्रित इस पुस्तक के पहले संस्करण की एक प्रति, ‘द टेन प्रिंसिपल उपनिषद’, पीएम मोदी द्वारा राष्ट्रपति बिडेन को उपहार में दी गई थी।

 

यहां जानिए पीएम मोदी ने अमेरिका की प्रथम महिला जिल बिडेन को क्या उपहार दिया:

 

उपहार -1: प्रयोगशाला में विकसित 7.5 कैरेट  हीरा

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की प्रथम महिला जिल बिडेन को प्रयोगशाला में विकसित 7.5 कैरेट ग्रीन हीरा उपहार में दिया। यह हीरा पृथ्वी से खोदे गए हीरों के रासायनिक और ऑप्टिकल गुणों को दर्शाता है। इसे ग्रीन हीरा इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह सौर ऊर्जा और पवन ऊर्जा से बनाया जाता है। इसके निर्माण में कोई प्रदुषण नहीं होता।

यह जिम्मेदार विलासिता का एक प्रतीक है जो भारत की 75 वर्षों की स्वतंत्रता और टिकाऊ अंतरराष्ट्रीय संबंधों का प्रतीक है।

 

उपहार 2: पेपर माचे बॉक्स

पपीयर माचे – यह वह बक्सा है जिसमें हरा हीरा रखा जाता है।

कारी कलमदानी के रूप में जाना जाता है, इसमें कश्मीर के उत्कृष्ट पपीर माचे में कागज की लुगदी बनाना और नक्काशी शामिल है,

कालातीत परंपरा और शिल्प कौशल का संगम, यह समृद्धि और जटिल रूपांकनों और सुंदर सादगी को प्रदर्शित करता है, जो इस कालातीत शिल्प के हर टुकड़े को एक उत्कृष्ट कृति बनाता है। यह उपहार वास्तव में भारत की जीवंत सांस्कृतिक टेपेस्ट्री का प्रतीक है।

 

 

 

 

dream catcher

Dream Catcher History 2023 | Dream catcher kya hota hai?

आपने कभी न कभी dream catcher को गिफ्ट्स शॉप पर या किसी दोस्त के घर, कार में लगा हुआ जरूर देखा होगा। यह धागों, मोती व रंग – बिरंगे पंख…

Leave a Comment